Source: 
Dainik Bhaskar
Author: 
City: 

भारतीय जनता पार्टी की इनकम में एक ही साल में 50% का इजाफा हुआ है। वित्त वर्ष 2019-20 में पार्टी की आय 2,410 करोड़ रुपए से बढ़कर 3,623 करोड़ रुपए हो गई है। यह इसी दौरान कांग्रेस की इनकम से पांच गुना ज्यादा रही। 2019-20 के दौरान भाजपा का खर्च 1,005 करोड़ रुपए से बढ़कर 1,651 करोड़ रुपए हो गया।

इलेक्शन कमीशन ने सोमवार को वित्त वर्ष 2019-20 के लिए भाजपा के सालाना ऑडिट की रिपोर्ट सार्वजनिक की। इसके मुताबिक, भाजपा ने 2019-20 में इलेक्टोरल बॉन्ड से 2,555 करोड़ रुपए कमाए। 2018-19 में पार्टी को बॉन्ड से 1,450 करोड़ रुपए की कमाई हुई थी।

6 पार्टियों की इनकम से तीन गुना ज्यादा रही BJP की आय
2019-20 में कांग्रेस की कुल आय 682 करोड़ रुपए, तृणमूल कांग्रेस की आय 143.67 करोड़ रुपए, CPM की आय 158.62 करोड़ रुपए, बहुजन समाज पार्टी की आय 58.25 करोड़ रुपए, NCP की आय 85.58 करोड़ रुपए और CPI की आय 6.58 करोड़ रुपए रही। भाजपा की 2019-20 की इनकम इन सभी पार्टियों की मिलीजुली कमाई से तीन गुना से भी ज्यादा रही।

चुनावी साल में 559.63 करोड़ बढ़ा BJP का चुनावी खर्च
पार्टी का चुनावी खर्च 2018-19 में 792.37 करोड़ से बढ़कर 2019-20 लोकसभा चुनाव में 1,352 करोड़ रुपए हो गया। 2019 में लोकसभा चुनाव हुए थे।

कांग्रेस की आय में हुई गिरावट
-2019-20 में कांग्रेस की आय पिछले साल के मुकाबले 25% कम होकर 682 करोड़ रह गई। 2018-19 में पार्टी की आय 998 करोड़ रुपए रही थी।

-2019-20 में कांग्रेस का खर्च 998 करोड़ रुपए रहा। यह पार्टी की आय से 1.6 गुना ज्यादा था।

2019-20 में इलेक्टोरल बॉन्ड से भाजपा ने कमाए 2,555 करोड़ रुपए
कुल आय-
 3,623 करोड़ रुपए

इलेक्टोरल बॉन्ड से हुई इनकम- 2,555 करोड़ रुपए

कॉन्ट्रिब्यूशन से हुई इनकम- 844 करोड़
⦁ व्यक्तिगत डोनेशन- 291 करोड़ रुपए
⦁ कंपनियों और ऑर्गेनाइजेशन से डोनेशन- 238 करोड़ रुपए
⦁ इंस्टीट्यूशन और वेलफेयर बॉडी से डोनेशेन- 281 करोड़ रुपए
⦁ अन्य स्रोतों से डोनेशन- 33 करोड़ रुपए

इन स्रोतों से भी हुई इनकम
⦁ आजीवन सहयोग निधि डोनेशन- 23 करोड़ रुपए
⦁ मोर्चो का योगदान- 5.03 करोड़ रुपए
⦁ मीटिंग से हुई आय- 34 लाख रुपए
⦁ एप्लीकेशन फीस- 28 लाख रुपए
⦁ डेलीगेट फीस- 1.29 करोड़ रुपए
⦁ मेंबरशिप फीस- 20.12 करोड़ रुपए

2019-20 में भाजपा ने मीडिया पब्लिसिटी पर खर्च किए 296 करोड़ रुपए

  • 2019-20 में भाजपा ने विज्ञापनों पर 400 करोड़ रुपए खर्च किए।
  • 2018-19 में 229 करोड़ रुपए के खर्च की तुलना में यह करीब दोगुना रहा।
  • इलेक्ट्रॉनिक मीडिया पब्लिसिटी पर 249 करोड़ रुपए खर्च। 2018-19 में 171.26 करोड़ खर्च हुए थे।
  • प्रिंट मीडिया पब्लिसिटी पर 47.38 करोड़ रुपए खर्च। 2018-19 में 20.32 करोड़ खर्च हुए थे।
  • नेताओं के एयर ट्रैवल पर भाजपा ने 250.49 करोड़ रुपए खर्च किए। 2018-19 में इस पर 20.63 करोड़ रुपए खर्च हुए थे।
  • 2019-20 में अपने उम्मीदवारों को पार्टी की तरफ से 198.27 करोड़ रुपए की आर्थिक सहायता दी गई। 2018-19 में यह आंकड़ा 60.35 करोड़ रुपए था।
© Association for Democratic Reforms
Privacy And Terms Of Use
Donation Payment Method