Source: 
Amar Ujala
Author: 
Date: 
03.03.2022
City: 
Lucknow

वर्ष 2017 में चुने गए विधायक जो विधानसभा चुनाव 2022 में किस्मत आजमा रहे हैं, उनकी संपत्ति में भारी बढ़ोतरी हुई है। एसोसिएशन फॉर डेमोक्रेटिक रिफार्म (एडीआर) उत्तर प्रदेश इलेक्शन वॉच ने दोबारा चुनाव लड़ रहे विधायकों व विधान परिषद के सदस्यों की आर्थिक स्थिति का विश्लेषण किया है। इसके मुताबिक भाजपा के विधायकों की संपत्तियों में औसतन 59.87 प्रतिशत, सपा के विधायकों की संपत्ति में 46.18 प्रतिशत और बसपा के विधायकों की संपत्ति में 47 प्रतिशत बढ़ोतरी हुई है।

रायबरेली से कांग्रेस के टिकट पर 2017 विधानसभा चुनाव जीतने वाली अदिति सिंह की कुल संपत्ति 13 लाख 98 हजार रुपये थी। लेकिन 2022 के चुनाव में यह संपत्ति 30 करोड़ रुपये से अधिक हो गई है। हालांकि एडीआर रिपोर्ट में यह स्पष्ट नहीं किया गया है कि इसमें अदिति सिंह के पिता अखिलेश सिंह जिनकी मृत्यु वर्ष 2019 में हुई थी, उनकी संपत्ति जोड़ी गई है या नहीं। वहीं, भाजपा के बांसगांव से विधायक डॉ. विमलेश पासवान की संपत्ति में 13 गुना का इजाफा हुआ है। पहले उनकी संपत्ति 2.18 करोड़ रुपये की थी। इस चुनाव में उनकी संपत्ति 26.13 करोड़ रुपये की हो गई है। बागपत से भाजपा विधायक योगेश धामा की संपत्ति भी 2.54 करोड़ रुपये से बढ़कर 21 करोड़ हो गई है। मेहरोनी से भाजपा विधायक मनोहर लाल की संपत्ति में 1.38 करोड़ से बढ़कर 15 करोड़ रुपये की हो गई  है। अतरौली से भाजपा विधायक संदीप कुमार सिंह की संपत्ति 1.42 करोड़ से बढ़कर 14.46 करोड़ रुपये की हो गई है।

गुड्डू जमाली की संपत्ति में हुई 77 करोड़ रुपये की वृद्धि
बसपा छोड़ एआईएमआईएम के टिकट पर आजमगढ़ की मुबारकपुर सीट से चुनाव लड़ रहे गुड्डू जमाली की संपत्ति में सर्वाधिक 77 करोड़ रुपये की वृद्धि हुई है। वर्ष 2017 में उनकी संपत्ति 118.76 करोड़ रुपये की थी, जो अब बढ़कर 195.85 करोड़ रुपये की हो गई है। दूसरे नंबर पर छपरौली निवार्चन क्षेत्र से भाजपा के सहेंद्र सिंह रमाला है, उनकी संपत्ति में 46.45 करोड़ की वृद्धि हुई है। वर्ष 2017 में उनकी संपत्ति 38.04 करोड़ थी, जो अब 84.50 करोड़ की हो चुकी है। तीसरे स्थान पर फूलपुर से भाजपा प्रत्याशी प्रवीण पटेल हैं, उनकी संपत्ति में 31.99 करोड़ की वृद्धि हुई है। वर्ष 2017 में उनकी संपत्ति 8.26 करोड़ थी, जो बढ़कर अब 40.26 करोड़ रुपये के बराबर हो गई है।

नेता प्रतिपक्ष राम गोविंद चौधरी समेत 17 विधायकों की संपत्ति घटी
एडीआर के मुताबिक 17 ऐसे विधायक भी हैं, जिनकी संपत्ति 2017 के मुकाबले इस चुनाव में कम हो गई है। इसमें सपा के राम गोविंद चौधरी की संपत्ति 56.16 लाख रुपये कम हो गई है। चौधरी विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष हैं। उनकी वर्ष 2017 में कुल संपत्ति 1.60 करोड़ थी, जो घटकर 1.04 करोड़ रुपये रह गई। मिर्जापुर की चुनार सीट से भाजपा विधायक अनुराग सिंह की संपत्ति 1.13 करोड़ रुपये कम हो गई। 2017 में उनकी संपत्ति 13.10 करोड़ थी, वर्ष 2022 में 11.97 करोड़ रुपये की रह गई। कानपुर की किदवईनगर सीट से भाजपा विधायक महेश कुमार त्रिवेदी की संपत्ति भी 69.32 लाख रुपये कम हो गई। सपा के गौरीगंज से विधायक राकेश प्रताप सिंह की संपत्ति भी 62.89 लाख रुपये घट गई।

© Association for Democratic Reforms
Privacy And Terms Of Use
Donation Payment Method