Source: 
Live Hindustan
https://www.livehindustan.com/jharkhand/ranchi/story-both-the-congress-candidates-have-no-criminal-cases-against-them-while-all-the-three-bjp-candidates-have-cases-registered-against-them-10055659.html
Author: 
हिन्दुस्तान टीम
Date: 
23.05.2024
City: 
Ranchi

लोकसभा चुनाव के छठे चरण में प्रदेश के चार संसदीय सीटों पर होने जा रहे चुनाव में कुल 93 उम्मीदवार चुनावी मैदान में हैं। एसोसिएशन फॉर डेमोक्रेटिक...

लोकसभा चुनाव के छठे चरण में प्रदेश के चार संसदीय सीटों पर होने जा रहे चुनाव में कुल 93 उम्मीदवार चुनावी मैदान में हैं। एसोसिएशन फॉर डेमोक्रेटिक रिफॉर्म्स (एडीआर) और द नेशनल इलेक्शन वॉच ने कुल 91 उम्मीदवारों के शपथ पत्र का विश्लेषण कर बुधवार को रिपोर्ट जारी की है। रिपोर्ट के मुताबिक 48 (53 प्रतिशत) उम्मीदवार पर आपराधिक मामले दर्ज हैं। कांग्रेस पार्टी के दोनों उम्मीदवारों पर किसी तरह का कोई आपराधिक मामला दर्ज नहीं है। भाजपा के तीनों ही उम्मीदवार पर आपराधिक मामले दर्ज हैं। कुल 91 उम्मीदवारों में से 25 (27 प्रतिशत) करोड़पति हैं। सभी उम्मीदवारों की औसत संपत्ति करीब 1.28 करोड़ रुपए है।

बता दें कि इस चरण में चारों सीटों पर मुकाबला एनडीए और इंडिया गठबंधन प्रत्याशियों के बीच है। इंडिया गठबंधन की ओर से कांग्रेस ने रांची से यशस्विनी सहाय, धनबाद से अनुपमा सिंह, झामुमो ने गिरिडीह से मथुरा महतो और जमशेदपुर से समीर मोहंती को उम्मीदवार बनाया है। एनडीए की ओर से भाजपा ने रांची से संजय सेठ, धनबाद से ढुलू महतो, जमशेदपुर से विद्युत वरण महतो और आजसू ने गिरिडीह से चंद्र प्रकाश चौधरी को उतारा है। धनबाद में 25, गिरिडीह में 16, जमशेदपुर में 25 और रांची में 27 उम्मीदवार चुनावी मैदान में है। इन सीटों पर 25 मई को मतदान होना है। धनबाद और गिरिडीह के एक-एक निर्दलीय प्रत्याशी का शपथ पत्र स्पष्ट नहीं होने के कारण इसका विश्लेषण नहीं किया गया है।

रिपोर्ट के मुताबिक कुल 48 उम्मीदवारों में से 28 (31 प्रतिशत) पर आपराधिक मामले और 20 (22 प्रतिशत) पर गंभीर आपराधिक मामले दर्ज हैं। पांच उम्मीदवारों पर हत्या का प्रयास (आईपीसी-307) और 5 पर महिलाओं के अत्याचार के मामले दर्ज हैं। भाजपा के तीनों उम्मीदवार (धनबाद, जमशेदपुर और रांची) पर आपराधिक मामले और दो पर गंभीर आपराधिक मामले हैं। कांग्रेस के दोनों उम्मीदवार (रांची और धनबाद) पर किसी तरह के आपराधिक मामले दर्ज नहीं है। झामुमो के दो (गिरिडीह और जमशेदपुर) उम्मीदवारों पर क्रमश: एक-एक पर आपराधिक और गंभीर आपराधिक मामले दर्ज हैं। आजसू पार्टी के एक (गिरिडीह) उम्मीदवार पर आपराधिक और गंभीर आपराधिक मामले दोनों ही दर्ज हैं। निर्दलीय चुनाव लड़ रहे 41 उम्मीदवारों में से 17 पर दोनों तरह के आपराधिक मामले दर्ज होने की बात कही गई है।

भाजपा के तीनों उम्मीदवारों की औसत संपत्ति चार करोड़ से अधिक की

कुल 91 में से 25 (27 प्रतिशत) उम्मीदवार करोड़पति हैं। इनकी संपत्ति एक करोड़ और इससे ज्यादा की है। भाजपा, कांग्रेस और आजसू के सभी उम्मीदवार करोड़पति हैं। झामुमो के दो उम्मीदवारों में से एक करोड़पति है। सभी उम्मीदवारों की औसत संपत्ति 1.28 करोड़ है। भाजपा के तीनों उम्मीदवार की चार करोड़ से अधिक, कांग्रेस के दोनों उम्मीदवारों की 5 करोड़ से अधिक और झामुमो के दोनों उम्मीदवारों की 2 करोड़ से अधिक की संपत्ति है।

निर्दलीय सौरभ विष्णु की संपत्ति सबसे अधिक, सबसे कम शिवजी प्रसाद की

जमशेदपुर से निर्दलीय चुनाव लड़ रहे सौरभ विष्णु इस चरण के चुनाव में सबसे अधिक अमीर उम्मीदवार हैं। उनकी कुल संपत्ति 19 करोड़ रुपए से अधिक है। रांची से भारतीय जनतंत्र मोर्चा के प्रत्याशी धर्मेंद्र तिवारी की कुल संपत्ति 9 करोड़ रुपए से अधिक की है। अनुपमा सिंह की 8 करोड़ से अधिक और ढुलू महतो की 7 करोड़ से अधिक की है। गिरिडीह से राइट टू रिकॉल पार्टी के उम्मीदवार शिवजी प्रसाद की संपत्ति सबसे कम 45 हजार की है।

देनदारी में निर्दलीय जितेंद्र सिंह पहले स्थान पर, अनुपमा सिंह दूसरे स्थान पर

रिपोर्ट के मुताबिक 49 (54 प्रतिशत) उम्मीदवारों ने अपनी देनदारी घोषित की है। जमशेदपुर सीट से निर्दलीय जितेंद्र सिंह पर 9 करोड़ रुपए से अधिक की देनदारी है। इस सूची में दूसरे स्थान पर धनबाद से कांग्रेस प्रत्याशी अनुपमा सिंह है। उन्होंने 8 करोड़ रुपए से अधिक की देनदारी घोषित की है। वहीं, आयकर विवरण में सबसे अधिक वार्षिक आय घोषित करने वाले उम्मीदवारों में ढुलू महतो पहले स्थान पर हैं। उनकी स्वयं की वार्षिक आय 39 लाख रुपए से अधिक की है।

44 उम्मीदवारों की शैक्षणिक योग्यता 5वीं और 12वीं के बीच की

38 उम्मीदवार 25 से 40 साल के, 14 की आयु 61 पार

उम्मीदवारों की आयु की बात करें तो 38 (42 प्रतिशत) ने अपनी आयु 25 से 40 के बीच घोषित की है। 39 (43 प्रतिशत) ने अपनी आयु सीमा 41 से 60 साल बतायी है। वहीं, 14 (15 प्रतिशत) उम्मीदवार ऐसे हैं, जिनकी आयु 61 से 80 वर्ष की है।

© Association for Democratic Reforms
Privacy And Terms Of Use
Donation Payment Method