Source: 
Author: 
Date: 
05.03.2018
City: 
Lucknow

उत्तर प्रदेश की गोरखपुर और फूलपुर लोकसभा सीटों के आगामी चुनाव में 25 प्रतिशत उम्मीदवारों पर आपराधिक मुकदमे दर्ज हैं और कुल प्रत्याशियों में से 11 करोड़पति हैं. एसोसिएशन फॉर डेमोक्रेटिक रिफार्म्स (एडीआर) उत्तर प्रदेश के मुख्य समन्वयक संजय सिंह ने आज यहां प्रेस कांफ्रेंस में गोरखपुर और फूलपुर उपचुनावों में खड़े प्रत्याशियों की आपराधिक, वित्तीय तथा शैक्षणिक पृष्ठभूमि का ब्यौरा देते हुए बताया कि इन चुनावों में मैदान में उतरे कुल 32 प्रत्याशियों में से आठ (25 फीसदी) ने खुद पर आपराधिक मुकदमे दर्ज होने की बात स्वीकार की है. 

संजय सिंह ने बताया कि इनमें से फूलपुर से निर्दलीय चुनाव लड़ रहे अतीक अहमद ने खुद पर हत्या से संबंधित आठ मामले घोषित किए हैं, जबकि उन पर इतने ही मामले हत्या के प्रयास के भी हैं. फूलपुर से ही परिवर्तन समाज पार्टी के उम्मीदवार रईस अहमद खान ने खुद पर हत्या के प्रयास का एक मामला घोषित किया है. रिपोर्ट के मुताबिक अतीक अहमद पर कुल 53 आपराधिक मामले दर्ज हैं. वहीं, फूलपुर से भाजपा प्रत्याशी कौशलेंद्र सिंह पटेल पर दो आपराधिक मामले दर्ज हैं जिनमें पहली पत्नी के रहते हुए धोखाधड़ी कर दूसरी शादी रचाने संबंधी मामला भी शामिल है. 

सिंह ने बताया कि गोरखपुर और फूलपुर उपचुनावों के लिये मैदान में उतरे 32 में से 11 प्रत्याशी करोड़पति हैं, जबकि सभी उम्मीदवारों की औसत संपत्ति 3.15 करोड़ रुपये है. सबसे ज्यादा अमीर प्रत्याशी फूलपुर से समाजवादी पार्टी के नागेंद्र प्रताप पटेल हैं जिनकी कुल संपत्ति 33 करोड़ रुपये है. दूसरे नंबर पर इसी सीट के निर्दलीय प्रत्याशी अतीक अहमद हैं, जिनके पास 25 करोड़ रुपये की संपत्ति घोषित की गयी है. गोरखपुर से सर्वोदय भारत पार्टी के प्रत्याशी गिरीश नारायण पांडे 10 करोड़ रुपये संपत्ति के साथ तीसरे सबसे अमीर प्रत्याशी हैं. 

रिपोर्ट के मुताबिक सबसे ज्यादा कर्जदार प्रत्याशियों में गोरखपुर से कांग्रेस प्रत्याशी डॉक्टर सुरहिता करीम तीन करोड़ रुपये के साथ पहले स्थान पर जबकि फूलपुर से सपा के नागेंद्र प्रताप पटेल एक करोड़ रुपये एवं इसी सीट से भारतीय जनता पार्टी के कौशलेंद्र सिंह पटेल 88 लाख रुपये के कर्ज के साथ तीसरे नंबर पर हैं. रिपोर्ट के अनुसार फूलपुर और गोरखपुर में चुनाव लड़ रहे 78 फीसदी उम्मीदवार युवा हैं जिनकी आयु 50 फीसदी से कम है और केवल सात उम्मीदवारों की आयु 61 से 70 साल के बीच है. दोनों सीटों से महज तीन महिला उम्मीदवार ही मैदान में हैं.

© Association for Democratic Reforms
Privacy And Terms Of Use
Donation Payment Method