Date: 
31.07.2019

नई दिल्ली. केंद्र सहित देश के अधिकांश राज्यों में सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी देश की सर्वाधिक धनाढ्य पार्टी बन गई है, जबकि देश में सर्वाधिक समय तक सत्ता में रही कांग्रेस पार्टी की आय में गिरावट दर्ज की गई है. यह जानकारी एडीआर रिपोर्ट में सामने आयी है.
एसोसिएशन फॉर डेमोक्रेटिक रिफॉर्म्स (एडीआर) द्वारा अपनी सालाना रिपोर्र्ट पेश की गई है, जिसमें 2016-17 से 2017-18 के बीच सात राष्ट्रीय दलों (भाजपा, कांग्रेस, राकांपा, बसपा, सीपीआई, सीपीएम और एआईटीसी) द्वारा घोषित संपत्ति, देनदारियों की जानकारी दी गई है.

एडीआर हर वर्ष राष्ट्रीय दलों की संपत्ति को लेकर रिपोर्ट जारी करता है. इस बार एडीआर द्वारा पेश की गई रिपोर्ट में राष्ट्रीय दलों की संपत्ति में बढ़ोतरी दर्ज की गई है. वित्तीय वर्ष 2016-17 में सातों राष्ट्र्रीय दलों की कुल औसत संपत्ति 465.83 करोड़ थी, जो वित्तीय वर्ष 2017-18 तक बढ़कर 493.81 करोड़ हो गई. 

भाजपा की कुल संपत्ति 1483 करोड़ के पार

सत्तारुढ़ भाजपा की कुल संपत्ति सबसे अधिक हैं और साथ ही पार्टी की कुल संपत्ति में 22.27 फीसदी की बढ़त हुई है. वित्तीय वर्ष 2016-17 के दौरान भाजपा की कुल संपत्ति 1213.13 करोड़ रुपये थी जो वित्तीय वर्ष 2017-18 में बढ़कर 1483.35 करोड़ रुपये हो गई है. 

अन्य दलों के आय की यह है स्थिति

राष्ट्रीय दलों द्वारा घोषित वार्षिक संपत्ति में केवल कांग्रेस और राकांपा की संपत्ति में कमी देखी गई. कांग्रेस की संपत्ति वित्तीय वर्ष 2016-17 में 854.75 करोड़ रुपये थी, वहीं वित्तीय वर्ष 2017-18 में यह घटकर 724.35 करोड़ रुपये हो गई. कांग्रेस की संपत्ति में 15.26 फीसदी गिरावट देखी गई है. वहीं दूसरी तरफ राकांपा की संपत्ति वित्तीय वर्ष 2016-17 में 11.41 करोड़ रुपये थी, जो वित्तीय वर्ष 2017-18 में 16.39 फीसदी घटकर 9.54 करोड़ रुपये हो गई.

तृणमूल कांग्रेस भले लोकसभा चुनावों में उम्मीद से ज्यादा प्रदर्शन नहीं कर पाई हो, लेकिन उसकी संपत्ति पर कुछ खास असर नहीं पड़ा है. वित्तीय वर्ष 2016-17 के दौरान तृणमूल कांग्रेस की कुल संपत्ति 26.25 करोड़ रुपये थी, जो वित्तीय वर्ष 2017-18 में 10.86 फीसदी बढ़कर 29.10 करोड़ रुपये हो गई.

कांग्रेस की देनदारियां सर्वाधिक

राष्ट्रीय दलों द्वारा घोषित देनदारियां कुल 514.99 करोड़ रुपये थी, जो प्रति दल औसत 73.57 करोड़ रुपये हो रही थी. कांग्रेस की देनदारी सबसे अधिक 461.73 करोड़ थी, जबकि भाजपा की 20.03 करोड़ थी. वित्तीय वर्ष 2017-18 में सबसे अधिक देनदारी कांग्रेस ने घोषित किया है, जिसके ऊपर 324.20 करोड़ रुपये की देनदारी है.

इसके बाद भाजपा ने 21.38 करोड़ रुपये और तृणमूल कांग्रेस ने 10.65 करोड़ रुपये की देनदारी अपने वार्षिक ऑडिट रिपोर्ट में घोषित किया है. वित्तीय वर्ष 2016-17 और 2017-18 के बीच, चार राष्ट्रीय दलों ने अपनी देनदारियों में कमी घोषित की है, जिसमें कांग्रेस ने 137.53 करोड़ रुपये की कमी, सीपीएम ने 3.02 करोड़ रुपये की कमी, राकांपा ने 1.34 करोड़ रुपये की कमी और तृणमूल कांग्रेस ने 55 लाख रुपये की कमी देनदारियों में घोषित की है. भाजपा, सीपीआई और बीएसपी ने  वित्तीय वर्ष 2017-18 के लिए अपने देनदारियों की राशि में वृद्धि घोषित की है. 

© Association for Democratic Reforms
Privacy And Terms Of Use
Donation Payment Method