Source: 
Author: 
Date: 
15.10.2019
City: 

अगर पार्टी के हिसाब से देखा जाए तो सबसे ज़्यादा आपराधिक पृष्ठभूमि के उम्मीदवारों को कांग्रेस ने टिकट दिया है, जबकि बड़ी पार्टियों में आपराधिक पृष्ठभूमि वाले उम्मीदवारों को सबसे कम टिकट देने की उपलब्धि बीजेपी ने हासिल की है.

Haryana Asssembly Election, 481 millionaire candidates, 70 candidates have serious criminal cases against them

हरियाणा: हरियाणा में 21 अक्टूबर को विधानसभा चुनाव के लिए मतदान होना है. चुनावी समर में कुल मिलाकर 1168 उम्मीदवार अपनी किस्मत आजमा रहे हैं. चुनाव और उससे जुड़े मुद्दों का अध्ययन करने वाली संस्था नेशनल इलेक्शन वॉच ने इनमें से 1138 उम्मीदवारों की तरफ से उम्मीदवारी के लिए दायर हलफनामे का अध्ययन किया है.

42 फीसदी उम्मीदवार हैं करोड़पति
चुनावी मैदान में इस बार कुल 481 करोड़पति उम्मीदवार हैं, जो कुल उम्मीदवारों का करीब 42 प्रतिशत है. कुल उम्मीदवारों में 16 प्रतिशत ऐसे हैं, जिनकी हलफनामे में घोषित सम्पत्ति 5 करोड़ रुपये या उससे ज़्यादा है, जबकि 14 फ़ीसदी उम्मीदवारों ने अपनी कुल सम्पत्ति 2 करोड़ रुपये से 5 करोड़ रुपये के बीच घोषित की है. मैदान में ताल ठोक रहे सभी उम्मीदवारों को मिला दें तो इनकी औसत सम्पत्ति 4.31 करोड़ होती है. हालांकि 2014 में हुई विधानसभा चुनाव की तुलना में उम्मीदवारों की औसत सम्पत्ति में कमी आई है. 2014 में औसत सम्पत्ति 4.54 करोड़ रूपये थी.

कौन है सबसे अमीर उम्मीदवार ?
गुड़गांव ज़िले की सोहना विधानसभा सीट से जेजेपी ( जननायक जनता पार्टी ) के उम्मीदवार रोहतास सिंह इस चुनाव में सबसे अमीर उम्मीदवार हैं. रोहतास सिंह ने अपनी सम्पत्ति 325 करोड़ रुपये घोषित की है. इसमें करीब 80 करोड़ रुपए चल सम्पत्ति, जबकि 240 करोड़ अचल संपत्ति के तौर पर घोषित की गई है. दूसरे स्थान पर मनोहर लाल खट्टर सरकार के वित्त मंत्री कैप्टन अभिमन्यु का नाम आता है. हिसार ज़िले की नारनौद सीट से ताल ठोक रहे कैप्टन अभिमन्यु ने अपने चुनावी हलफ़नामे में कुल 170 करोड़ की सम्पत्ति घोषित की है. जबकि गुरुग्राम ज़िले की गुड़गांव सीट से अपनी किस्मत आजमा रहे कांग्रेस के सुखबीर कटारिया ने 106 करोड़ रुपये की अपनी सम्पत्ति घोषित की है.

कांग्रेस के सबसे ज़्यादा करोड़पति उम्मीदवार
चुनाव मैदान में सबसे ज़्यादा करोड़पति उम्मीदवार कांग्रेस पार्टी से है. कांग्रेस के कुल 87 उम्मीदवारों में से 79 यानी 91 फ़ीसदी उम्मीदवार करोड़पति हैं. पिछले पांच सालों से राज्य में सत्तारूढ़ बीजेपी भी बहुत ज़्यादा पीछे नहीं है. बीजेपी के कुल 89 फ़ीसदी उम्मीदवार भी करोड़पति हैं. वहीं पहली बार विधानसभा चुनाव लड़ रही जननायक जनता पार्टी के भी 63 फ़ीसदी उम्मीदवारों ने अपनी सम्पत्ति करोड़ों में घोषित की है.

70 उम्मीदवारों के ख़िलाफ़ गंभीर आपराधिक मामला
187 ( 17 फीसदी) उम्मीदवार ऐसे हैं, जिन्होंने अपने हलफ़नामे में ये घोषित किया है कि उनके ख़िलाफ़ आपराधिक मुक़दमे दर्ज हैं. इनमें 70 तो ऐसे हैं, जिनके ख़िलाफ़ हत्या और अन्य गंभीर आपराधिक मामले चल रहे हैं, जबकि 117 यानी करीब 10% उम्मीदवारों पर अन्य आपराधिक मामले दर्ज हैं. पिछली बार ऐसे उम्मीदवारों की संख्या 7 फ़ीसदी थी. इस अध्ययन में 15 सीटों को रेड अलर्ट सीट घोषित किया गया है. ये ऐसी सीटें हैं, जिनमें कम से कम 3 उम्मीदवारों के ख़िलाफ़ आपराधिक मुक़दमे दर्ज हैं.

किस पार्टी ने कितने अपराधियों को दिए टिकट ?
अगर पार्टी के हिसाब से देखा जाए तो सबसे ज़्यादा आपराधिक पृष्ठभूमि के उम्मीदवारों को कांग्रेस ने टिकट दिया है. पार्टी के 13 उम्मीदवारों के ख़िलाफ़ आपराधिक मुक़दमा दर्ज है. इससे अलग 9 उम्मीदवार ऐसे हैं जिनपर गंभीर आपराधिक मामलों में केस दर्ज है. बड़ी पार्टियों में आपराधिक पृष्ठभूमि वाले उम्मीदवारों को सबसे कम टिकट देने की उपलब्धि बीजेपी ने हासिल की है. जहां पार्टी के 3 उम्मीदार पर आपराधिक मामला दर्ज है, वहीं 1 उम्मीदवार पर गंभीर अपराध में केस दर्ज है.

© Association for Democratic Reforms
Privacy And Terms Of Use
Donation Payment Method