Source: 
Author: 
Date: 
15.10.2019
City: 

नई दिल्ली (वार्ता) : हरियाणा विधानसभा के चुनाव में इस बार खड़े होने वाले 10 प्रतिशत उम्मीदवारों के खिलाफ आपराधिक मामले दर्ज हैं जबकि 6 प्रतिशत प्रत्याशियों के खिलाफ अपराध के गंभीर मामले दर्ज हैं। इस तरह 2014 के चुनाव की तुलना में इस बार आपराधिक छवि के उम्मीदवारों का प्रतिशत 3 प्रतिशत बढ़ा है जबकि गंभीर आपराधिक मामलों में लिप्त प्रत्याशियों की संख्या भी इस बार एक प्रतिशत बढ़ी है।

एसोसिएशन फार डैमोक्रेटिक रिफार्म (ए.डी.आर.) की रिपोर्ट अनुसार चुनाव आयोग के सामने 1,169 उम्मीदवारों के हलफनामे में से 1,138 उम्मीदवारों के हलफनामे के आधार पर यह आंकड़ा सामने आया है। रिपोर्ट अनुसार 42 प्रतिशत उम्मीदवार करोड़पति हैं। 117 उम्मीदवारों के खिलाफ अपराध के मामले दर्ज हैं जबकि 70 उम्मीदवारों के खिलाफ अपराध के गंभीर मामले दर्ज हैं। 5 उम्मीदवारों पर महिलाओं के खिलाफ ङ्क्षहसा का मुकद्दमा दर्ज है और इनमें से 2 के खिलाफ भारतीय दंड संहिता (आई.पी.सी.) की धारा 376 के तहत बलात्कार का मामला दर्ज है। वर्ष 2014 में 1,343 उम्मीदवारों में से 94 के खिलाफ मामले दर्ज थे और 70 के खिलाफ अपराध के गंभीर मामले दर्ज थे।

5 उम्मीदवारों पर हत्या के प्रयास के मामले दर्ज
ए.डी.आर. की रिपोर्ट मुताबिक 5 उम्मीदवारों पर आई.पी.सी. की धारा 307 के तहत हत्या के प्रयास करने के मामले दर्ज हैं। रिपोर्ट मुताबिक कांग्रेस के 13, बहुजन समाज पार्टी (बसपा) के 12, जननायक जनता पार्टी के 10, इंडियन नैशनल लोक दल (इनैलो) के 7 और भारतीय जनता पार्टी के 3 प्रत्याशी आपराधिक पृष्ठभूमि वाले हैं। इन सभी ने अपने चुनावी हलफनामे में इस बात की घोषणा की है।

481 उम्मीदवार करोड़पति 
चुनाव में करोड़पति उम्मीदवारों की संख्या 481 है जिनकी औसत संपत्ति 4.31 करोड़ है। रिपोर्ट अनुसार कांग्रेस के 79,भाजपा के 79, जननायक जनता पार्टी के 62,इनैलो के 50 और बसपा के 34 उम्मीदवारों ने एक करोड़ रुपए से अधिक की संपत्ति होने की जानकारी दी है।  सबसे अधिक संपत्ति वाले 3 उम्मीदवारों में जजपा के रोहतास सिंह हैं जिनकी कुल संपत्ति 325 करोड़ रुपए है। भाजपा के प्रत्याशी कैप्टन अभिमन्यु की संपत्ति 170 करोड़ रुपए है जबकि कांग्रेस के उम्मीदवार सुखबीर कटारिया की कुल संपत्ति 106 करोड़ रुपए है। 

© Association for Democratic Reforms
Privacy And Terms Of Use
Donation Payment Method