Source: 
Author: 
Date: 
26.04.2018
City: 

देश में वर्तमान में 58 वर्तमान सांसद और विधायकों ऐसे हैं जिनपर नफरत भरे भाषण देने को लेकर मुक़दमे चल रहे हैं. ऐसे नेताओं में भाजपा के सबसे ज्यादा हैं. दिल्ली स्थित थिंक टैंक एसोसिएशन फॉर डेमोक्रेटिक रिफॉर्म्स (एडीआर) ने अपनी  रिपोर्ट में इसका खुलासा किया है. 15 लोकसभा सांसदों ने अपने खिलाफ घृणास्पद भाषण से संबंधित मामलों की जानकारी दी है. जबकि इनमे राज्यसभा का कोई सांसद शामिल नहीं है.

इस तरह के घोषित मामलों में 10 लोकसभा सांसद बीजेपी से हैं, जबकि एक- एक एआईयूडीएफ (अखिल भारतीय यूनाइटेड डेमोक्रेटिक फ्रंट), टीआरएस (तेलंगाना राष्ट्र समिति), पीएमके (पट्टाली मक्कल कची), एआईएमआईएम और एसएचएस (शिवसेना) के हैं.

ऐसे मामलों में कुल बीजेपी के 27 सांसद और विधायक हैं. जबकि अखिल भारतीय मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिममीन (एआईएमआईएम) में 6, टीआरएस (6), टीडीपी (3), एसएचएस (3), एआईटीसी (2), आईएनसी (2), भारत (2), जेडी (यू) (2), एआईयूडीएफ (1), बीएसपी (1), डीएमके (1), पीएमके (1) और एसपी (1), का एडीआर की रिपोर्ट में खुलासा किया गया है.

देश के करीब 48 सांसदों एवं विधायकों के खिलाफ महिलाओं के प्रति अपराध के मामले दर्ज हैं. इनमें भाजपा सदस्यों की संख्या सबसे ज्यादा 12 है. एसोसिएशन फोर डेमोक्रेटिक रिफॉर्म्स (एडीआर) की रिपोर्ट के मुताबिक, अपने खिलाफ आपराधिक मामलों की घोषणा करने वाले 1,580 (33 प्रतिशत) सांसदों/ विधायकों में से 48 ने अपने खिलाफ महिलाओं के प्रति अपराध के मामले दर्ज होने की घोषणा की है.

First published: 25 April 2018, 17:18 IST

© Association for Democratic Reforms
Privacy And Terms Of Use
Donation Payment Method