Source: 
Author: 
Date: 
07.05.2018
City: 

 कर्नाटक चुनाव जैसे-जैसे नजदीक आ रहा है, वैसे वैसे दिलचस्प होता जा रहा है। सोमवार को पीएम नरेंद्र मोदी ने जहां 4 जनसभाएं कर कर्नाटक में बीजेपी की धाक जमाई, वहीं एक खुलासे ने बीजेपी की किरकिरी कर दी है। कर्नाटक चुनाव को लेकर एसोसिएशन फॉर डेमोक्रेटिक रिफॉर्म्स (एडीआर) ने अपनी एक रिपोर्ट में बड़ा खुलासा किया है। जिसमें सामने आया है कि कर्नाटक चुनाव में बीजेपी ने बड़ी संख्या में दागी उम्मीदवारों को मैदान में उतारा है। 

दागी नेताओं को टिकट

रिपोर्ट में बताया गया है कि भाजपा ने सर्वाधिक दागी नेताओं को टिकट दिया है, वहीं कांग्रेस इस मामले में दूसरे पायदान पर है। कर्नाटक के चुनावी रण में कुल 2560 उम्मीदवारों में से 391 के खिलाफ मामले दर्ज हैं। इनमें 254 ऐसे उम्मीदवार हैं जिनके खिलाफ गंभीर आपराधिक केस दर्ज हैं। इनमे से 4 उम्मीदवारों के खिलाफ हत्या के, जबकि 25 के खिलाफ हत्या की कोशिश के मामले दर्ज हैं। 

 

 

पहले नंबर पर बीजेपी के दागी उम्मीदवार

23 उम्मीदवारों ने महिलाओं के खिलाफ अपराध की घोषणा अपने हलफनामे में की है। एडीआर की रिपोर्ट में कहा गया है कि चुनाव लड़ने वाले सभी प्रमुख दलों में बीजेपी के पास आपराधिक मामलों के साथ सबसे ज्यादा उम्मीदवार हैं, इसके बाद कांग्रेस और जेडी(एस) हैं। 

224 बीजेपी उम्मीदवारों में से 83 यानी 37% के खिलाफ आपराधिक मामले दर्ज

कांग्रेस के 220 उम्मीदवारों में से 59 यानी 27% के नाम मामले दर्ज

58 बीजेपी उम्मीदवारों के खिलाफ गंभीर आपराधिक रिकॉर्ड हैं, जबकि 220 कांग्रेस उम्मीदवारों में से 32 और जेडी (एस) के 29 उम्मीदवारों के खिलाफ भी इसी तरह के मामले दर्ज हैं। वहीं करोड़पतियों में 2560 उम्मीदवारों में 883 करोड़पति हैं। बीजेपी के 93 प्रतिशत उम्मीदवार करोड़पति हैं। गौर करने वाली एक और रोचक बात यह है कि यहां चुनाव में हर उम्मीदवार के पास औसतन 7.54 करोड़ की प्रॉपर्टी है। एडीआर ने कर्नाटक के विधानसभा की 56 सीटों को संवेदनशील बताया है।

 

 

उम्मीदवारों ने कबूला कि मामले दर्ज हैं

बता दें कि चुनावी मैदान में उतरे कुल 2560 उम्मीदवारों में से 391 ने खुद कबूल किया है कि उनके ऊपर आपराधिक मामले दर्ज हैं। 254 के खिलाफ गंभीर आपराधिक मामले हैं। राज्य में 12 मई को चुनाव होने हैं। उससे पहले 2560 उम्मीदवारों की ओर से फाइल की गई एफिडेविट में से एसोसिएशन फॉर डेमोक्रेटिक रिफॉर्म्स (एडीआर) ने 2555 उम्मीदवारों का विश्लेषण किया है। जिसमें से 95 उम्मीदवारों की ओर से दिया गया एफिडेविट अधूरा है। 

© Association for Democratic Reforms
Privacy And Terms Of Use
Donation Payment Method