Source: 
Author: 
Date: 
01.04.2021
City: 

चार राज्यों और एक केंद्र शासित प्रदेश में विधानसभा चुनाव लड़ रहे 6318 उम्मीदवारों में से 18 फीसद ने अपने खिलाफ आपराधिक मामले दर्ज होने की जानकारी दी है। यह जानकारी चुनाव अधिकार समूह एडीआर ने दी है। नेशनल इलेक्शन वाच और एसोसिएशन आफ डेमोक्रेटिक रिफा‌र्म्स (ADR, Association for Democratic Reforms) ने केंद्र शासित प्रदेश पुडुचेरी और चार राज्यों असम, केरल, तमिलनाडु और बंगाल में तीसरे चरण तक के विधानसभा चुनावों में 6792 उम्मीदवारों में से 6318 उम्मीदवारों के हलफनामे का विश्लेषण किया है।

जिन 6318 उम्मीदवारों का विश्लेषण किया गया उनमें से 1157 (18 फीसद) ने अपने हलफनामे में खुद के खिलाफ आपराधिक मामलों की घोषणा की है और 632 उम्मीदवारों (दस फीसद) ने अपने खिलाफ गंभीर आपराधिक मामलों की घोषणा की है। 1317 उम्मीदवार (21 फीसद) करोड़पति हैं।

भाजपा के 319 उम्मीदवारों में से 163 (51 फीसद) ने अपने खिलाफ आपराधिक मामलों की जानकारी दी है और 108 (34 फीसद) ने गंभीर आपराधिक मामलों की जानकारी दी है। कांग्रेस के 239 उम्मीदवारों में से 132 (55 फीसद) ने आपराधिक मामलों ओर 82 (34 फीसद) ने अपने विरुद्ध गंभीर आपराधिक मामलों की सूचना दी है।

अन्नाद्रमुक के 197 उम्मीदवारों का विश्लेषण किया गया। इनमें से 50 (25 फीसद) ने अपने खिलाफ आपराधिक मामले और 23 (21 फीसद) ने गंभीर आपराधिक मामलों की जानकारी दी है। द्रमुक के 191 में से 143 (75 फीसद) उम्मीदवारों ने अपने खिलाफ आपराधिक मामलों के बारे में जानकारी दी है जबकि 55 (29 फीसद) ने अपने खिलाफ गंभीर आपराधिक मामलों के बारे में बताया है।

तमिलनाडु में जिन 3559 उम्मीदवारों का विश्लेषण किया गया है। उनमें से 466 यानी 13 फीसद ने अपने खिलाफ आपराधिक मामलों की घोषणा की है। केरल में 928 उम्मीदवारों में से 355 यानी 38 फीसद ने अपने खिलाफ आपराधिक मामले घोषित किए हैं। वहीं असम में 941 उम्मीदवारों में से 138 यानी 15 फीसद ने अपने खिलाफ आपराधिक मामलों का जिक्र किया है। पुडुचेरी में 323 उम्मीदवारों में से 54 यानी 17 फीसद ने अपने खिलाफ आपराधिक मामलों की घोषणा की है।  

© Association for Democratic Reforms
Privacy And Terms Of Use
Donation Payment Method