Source: 
Navbharat Times
Author: 
Date: 
03.03.2022
City: 
Lucknow

इस बार चुनाव लड़ने वाले प्रदेश (UP Assembly Election 2022) के 301 में 284 विधायकों की संपत्ति तेज रफ्तार से बढ़ी है। एडीआर ने बुधवार को चुनाव लड़ रहे विधानसभा और विधानपरिषद सदस्यों के हलफनामे का विश्लेषण कर इसका डेटा जारी किया है। एडीआर (ADR) ने स्पष्ट किया है कि दोबारा चुनाव लड़ने वाले विधायकों में 94 प्रतिशत की संपत्ति में 22,057% तक की बढ़ोतरी पाई गई है। जबकि 17 विधायक ऐसे हैं, जिनकी संपत्ति में 6% तक की कमी आई है।

एडीआर के यूपी संयोजक संजय सिंह ने बताया कि फिर चुनाव लड़ने वाले विधायकों की 2017 के विधानसभा चुनाव के दौरान औसत संपत्ति 5.68 करोड़ रुपये थी, जो 2022 के विधानसभा चुनाव में बढ़कर 8.87 करोड़ रुपये हो गई है। 5 साल में इन विधायकों की संपत्ति में औसतन 3.18 करोड़ रुपये, यानी 56% की वृद्धि दर्ज की गई है।

इनकी संपत्ति में सबसे ज्यादा इजाफा
रायबरेली सदर सीट से विधायक अदिति सिंह की संपत्ति में 22,057% का इजाफा दर्ज किया गया है। उनकी संपत्ति 2017 में 13 लाख रुपये थी, जबकि 2022 में उन्होंने अपनी संपत्ति 30 करोड़ रुपये घोषित की है। वह इस बार भाजपा के निशान पर रायबरेली सदर सीट से चुनाव लड़ रही हैं। मुबारकपुर सीट से एआईएमआईएम के शाह आलम उर्फ गुड्डू जमाली ने अपनी संपत्ति में सबसे ज्यादा 77.09 करोड़ रुपये की वृद्धि घोषित की है। 2017 में गुड्डू जमाली बसपा के टिकट पर विधायक चुने गए थे और उनकी संपत्ति 118.76 करोड़ रुपये थी, जो अब 195.85 करोड़ रुपये हो गई है। छपरौली से बीजेपी के प्रत्याशी सहेंद्र सिंह रमाला की संपत्ति में 46.45 करोड़ रुपये का इजाफा हुआ है। 2017 में उनकी संपत्ति 38.04 करोड़ रुपये थी। फूलपुर निर्वाचन क्षेत्र से बीजेपी उम्मीदरवार प्रवीण पटेल की संपत्ति में 31.99 करोड़ रुपये की वृद्धि हुई है। 2017 में उनकी संपत्ति 8.26 करोड़ रुपये थी।

इनकी संपत्ति कम हुई
दिबियापुर सीट से विधायक लखन सिंह राजपूत की संपत्ति में 36% की गिरावट दर्ज की गई है। बांसडीह से सपा विधायक राम गोविंद चौधरी की संपत्ति में 35% की कमी दर्ज की गई है। 1.60 करोड़ रुपये से घटकर उनकी संपत्ति 1.03 करोड़ रुपये रह गई है। अल्पसंख्यक कल्याण मंत्री नंद गोपाल गुप्ता नंदी की भी संपत्ति 35% कम हुई है। उनकी संपत्ति 57 करोड़ रुपये से घटकर 37 करोड़ रुपये रह गई है। जैदपुर से विधायक रहे गौरव कुमार की भी संपत्ति 41 लाख रुपये से घटकर 31 लाख रुपये रह गई है। उनकी संपत्ति में 24% की कमी आई है।

भाजपा की तीन करोड़, बसपा की चार करोड़ रुपये बढ़ी संपत्ति
भाजपा विधायकों की संपत्ति में औसतन तीन करोड़ रुपये जबकि बसपा विधायकों की संपत्ति में औसतन चार करोड़ रुपये का इजाफा दर्ज किया गया है। एडीआर के मुताबिक भाजपा के 223 विधायकों की औसत संपत्ति 2017 में 5.27 करोड़ रुपये थी, जो 2022 में बढ़कर 8.43 करोड़ रुपये हो गई। बसपा के 8 विधायक चुनाव मैदान में हैं। इनकी संपत्ति में औसतन चार करोड़ रुपये का इजाफा दर्ज किया गया है। सपा के 55 विधायकों की संपत्ति में औसतन 2 करोड़ की वृद्धि दर्शाई गई है।

© Association for Democratic Reforms
Privacy And Terms Of Use
Donation Payment Method