Source: 
नवभारत टाइम्स
http://navbharattimes.indiatimes.com/india/national-india/Stains-are-the-best/articleshow/21462748.cms
Date: 
29.07.2013
City: 
New Delhi

नई दिल्ली।। जिन नेताओं पर जितने ज्यादा क्रिमिनल केस दर्ज होंगे, उनके लिए इलेक्शन का टिकट पाना उतना ही आसान होगा। इसके उलट जिन नेताओं का दामन साफ है, उनके लिए न केवल टिकट हासिल करना, बल्कि चुनाव जीतना भी मुश्किल है।

चुनाव सुधार के लिए काम करने वाले संगठन असोसिएशन ऑफ डेमोक्रेटिक रिफॉर्म की रिसर्च में यह बात सामने आई है। यह रिसर्च 2004 के बाद पूरे देश में एमपी या एमएलए के चुनाव लड़ने वाले 62847 उम्मीदवारों की ओर से जमा एफिडेविट के आधार पर किया गया है।

इनमें 8790 ऐसे सांसद या विधायक हैं जो 2004 के बाद अपनी सीट को बचाने में अब तक कामयाब रहे हैं। आइए कुछ और दिलचस्प पहलुओं पर गौर करें:

मुकदमे
1. कुल 11063 नेताओं ने अपने खिलाफ क्रिमिनल केस होने की बात मानी। यह कुल तादाद का 18 फीसदी है
2. इनमें 5253 ऐसे नेता हैं जिन पर गंभीर आपराधिक रिकॉर्ड दर्ज रहे हैं
3. मौजूदा लोकसभा में 162 सांसद ऐसे हैं, जिन्होंने अपने खिलाफ क्रिमिनल केस दर्ज होने की बात मानी है
4. राज्यसभा के 40 मेंबरों के खिलाफ क्रिमिनल केस दर्ज है
5. 4032 में से 1258 विधायकों ने अपने खिलाफ क्रिमिनल केस दर्ज होने की जानकारी दी है
6. 2004 के जीते उम्मीदवारों में कांग्रेस के 8 फीसदी और बीजेपी के 13 फीसदी सांसदों और विधायकों के खिलाफ केस दर्ज है
7. राजनीतिक दलों ने 74 फीसदी ऐसे उम्मीदवारों को टिकट दिए जिनके खिलाफ क्रिमिनल केस दर्ज था।
8. जिनके खिलाफ कोई केस दर्ज नहीं है, उनकी जीत का औसत मात्र 12 फीसदी रहा

शिवसैनिकों पर सबसे ज्यादा केस
1. सियासी दलों की बात करें तो सबसे ज्यादा शिवेसना के 75 फीसदी सांसद और विधायकों के खिलाफ क्रिमिनल केस दर्ज रहा। आरजेडी 46 और जेडीयू 44 फीसदी के साथ दूसरे और तीसरे नंबर पर रहा। कांग्रेस के 22 और बीजेपी के 31 फीसदी चुने गए सांसद और विधायकों के खिलाफ क्रिमिनल केस रहा
2. एक दिलचस्प बात यह है कि जितनेपढ़े-लिखे नेता हैं उनके खिलाफ उतने ही ज्यादा क्रिमिनल केस दर्ज हैं। कुल 8790 ग्रेजुएट सांसद और विधायकों में 5384 नेताओं के खिलाफ केस दर्ज हुए।

प्रॉपर्टी
1 2004 से जिन नेताओं ने चुनाव लड़े उनकी औसत प्रॉपर्टी 1.37 करोड़ रुपये है
2. जीतने वाले सांसदों और विधायकों की औसत संपत्ति 3.83 करोड़ रुपये है
3. दिलचस्प बात है कि क्रिमिनल बैकग्राउंड वालों की औसत संपत्ति कहीं ज्यादा 4.38 करोड़ रुपये है
4. 2004 से ऐसे 4181 नेता ऐसे हैं जो एक से ज्यादा चुनाव लडे़ रहे हैं। इस बीच इनकी औसत संपत्ति 100 फीसदी से 500 फीसदी के बीच बढ़ी।

महिलाओं पर भी क्रिमिनल केस
-साल 2004 से अलग-अलग चुनावों में सिर्फ 7 फीसदी महिलाओं ने चुनाव लड़ा। हालांकि कुल 4148 महिला उम्मीदवारों में 414 महिलाओं के खिलाफ भी क्रिमिनल केस दर्ज हुए। लेकिन यह पुरुषों के औसत से कम है। दिलचस्प बात है कि महिला उम्मीदवारों की औसत प्रॉपर्टी पुरुषों से ज्यादा रही है।

Donate       

© Association for Democratic Reforms
Privacy And Terms Of Use
Donation Payment Method