Source: 
Author: 
Date: 
03.03.2015
City: 
New Delhi

नई दिल्ली। पिछले एक दशक में देश के राष्ट्रीय राजनीतिक दलों द्वारा जुटाए गए चंदे में 418 फीसदी की जबर्दस्त बढ़ोतरी दर्ज की गई है। एसोसिएशन फॉर डेमोके्रटिक रिफॉम्र्स (एडीआर) द्वारा दी जानकारी के मुताबिक वर्ष 2014 के लोकसभा चुनाव के लिए छह राष्ट्रीय दलों (भाजपा, कांग्रेस, बसपा, राकापां, भाकपा और माकपा) ने कुल मिलाकर 1,158.59 करोड़ रूपए का चंदा जुटाया। वर्ष 2004 के लोकसभा चुनाव में इन्हीं दलों ने 223.80 करोड़ रूपए चंदा जुटाया था। दिलचस्प यह है कि वर्ष 2004 के मुकाबले 2009 में इन दलों द्वारा जुटाए गए चंदे में करीब चार गुना बढ़ोतरी दर्ज की गई है। वर्ष 2004 के 223.80 करोड़ रूपए के मुकाबले वर्ष 2009 के लोकसभा चुनाव में इन्हीं राष्ट्रीय दलों ने चंदे के मद में 854.89 करोड़ रूपए जुटाए थे।

भाजपा सबसे आगे
कॉरपोरेट्स और कारोबारियों की पार्टी मानी जाने वाली भाजपा ने वर्ष 2014 में 588.45 करोड़ रूपए का चंदा जुटाया। कांग्रेस को इस मद में लोगों से 350.39 करोड़ रूपए मिले, जबकि अन्य सभी दलों का आंकड़ा 100 करोड़ रूपए से कम रहा। राकांपा ने चंदे के मद में 77.85 करोड़ रूपए, बसपा ने 77.26 करोड़ रूपए, माकपा ने 55.12 करोड़ रूपए और भाकपा ने 9.52 करोड़ रूपए की रकम चंदे के मद में जुटाई।

आमदनी कम, खर्च ज्यादा
खर्च के मोर्चे पर भी भाजपा पीछे नहीं रही और पार्टी ने बीते लोकसभा चुनाव में 75 दिनों के प्रचार अभियान में 712.48 करोड़ रूपए की रकम खर्च की। यहां भी 100 करोड़ रूपए से ज्यादा खर्च करने वाली पार्टी की सूची में भाजपा के अलावा सिर्फ कांग्रेस का नाम है, जिसने 486.21 करोड़ रूपए की रकम खर्च की। सभी राष्ट्रीय दलों ने मिलकर वर्ष 2014 के लोकसभा चुनाव में कुल 1,308.75 करोड़ रूपए की रकम खर्च किए। वर्ष 2009 में यह आंकड़ा 875.81 करोड़ रूपए, जबकि वर्ष 2004 में 269.42 करोड़ रूपए खर्च किए थे।

इन दलों का कुल चंदा
2004 : 223.80 करोड़ रूपए
2009 : 854.89 करोड़ रूपए
2014 : 1,158.59 करोड़ रूपए - See more at: http://www.patrika.com/news/political/national-parties-fund-collection-r...

© Association for Democratic Reforms
Privacy And Terms Of Use
Donation Payment Method